Why do we celebrate Makar Sankranti? मकर संक्रांति 2019

Makar Sankranti, also known as Makar Sankranti (Sanskrit: Makar Sankranti) or Maghi, is a festival day in reference to the Sun god (sun) in the Hindu calendar. It is celebrated every year in January. It marks the day before the transit of the Sun with Capricorn (Capricorn), the end of the month with the winter solstice and the beginning of long days.

Makar Sankranti is one of some of the ancient Indian festivals which have been observed in accordance with solar chakras, while most of the festivals are scheduled by the cycle of calendar calendar of Hindu calendar. Being a festival which celebrates the solar cycle, it almost always falls on the same Gregorian date every year (January 14th), except for a few years when the date changes in one day for that year.

The festivals associated with Makar Sankranti are known by different names like Uttarakhand (before Lohri) by North Indian Hindus and Sikhs, Makar Sankranti (Pedda Pandja) in Andhra Pradesh, Karnataka and Telangana, Maghar Behoo by Sukrat, Assamia in central India. And Pongal by the Tamils

Makar Sankranti is celebrated for social festivals such as colorful decorations, visiting village children from house to house, singing and for some areas (or pocket money), fairs, dances, kites, bonuses and banquets. Magh Mela, Diana L. According to AK (a professor specializing in Indology at Harvard University), the Hindu epic is mentioned in the Mahabharata, thus the festival is about 5,000 years old.

Many go to sacred rivers or lakes and take a bath while thanking the sun. Every twelve years, Hindu Makar celebrates Sankranti with one of the largest mass pilgrimages in the world, in which an estimated 40 to 100 million people are involved. In this event, they pray to the Sun and take a bath at the Prayag Sangam of the Ganges and Yamuna rivers in Kumbh Mela, which is a tradition for Adi Shankaracharya.

Date

Makar Sankranti is determined by the solar cycle of Hindu Hindu calendar, and it is celebrated on one day, which usually falls on January 14 of the Gregorian calendar but sometimes on 15th January. It symbolizes the arrival of more days. Makar Sankranti, the Hindu Calendar of Makar falls in the solar month and the lunar month of Magh (the festival is also known as Magh Sankranti or Magh festival in some parts of India). It is a symbol of the winter solstice for India and the end of the month with the longest night of the year, a month called Poush in the lunar calendar and Sagittarius in the solar calendar in Vikrama system. The festival celebrates the first month for more consecutive days.

There are two different systems for calculating the date of Makar Sankranti: Narayan (without adjusting to the equatorial position of the constellations) and the shadow (adjusting, with tropical). The date of January 14 is based on the Narayan system, while the Saina system is usually about 23 December according to the texts per theory for the Hindu calendar.

Importance

This festival is dedicated to the Hindu Sun God, the Sun. This importance of the sun reveals the Vedic texts, especially Gayatri Mantra, a sacred psalm of Hindu religion, which is found in a book called Rigveda. This festival marks the beginning of the six months’ auspicious time for the Hindus known as the Uttarayan period.

Makar Sankranti is considered important for spiritual practices and accordingly, people impose a holy dip in the rivers, especially Ganga, Yamuna, Godavari, Krishna and Kaveri. It is believed that bathing is the quality or decay of past sins. They also pray to the sun and thank them for their successes and prosperity. A common cultural practice found among the Hindus of different parts of India is particularly sticky to the Chinese base (good, boy) like sesame (mole) and jaggery.

This type of dessert is a symbol of living together in peace and happiness, despite the specificity and differences among individuals. For most parts of India, this period is a part of Rabi crops and early stages of the agricultural cycle, where crops have been sown and hard work has been done in the fields. In this way, this time indicates socialism and families to enjoy each other’s company, caring for cattle and celebrating around the bonfire, festival is celebrated in Maharashtra by flying kites.

Makar Sankranti is an important all-India solar festival, which is known by different names, although at the same date, sometimes Makar is celebrated for many dates around Sankranti. It is known from Pedda Pandu in Andhra Pradesh, Makar Sankranti in Karnataka, Pongal in Tamil Nadu, Magh Bihu in Assam, Maagh Mela in parts of Central and North India, Makar Sankranti in the West and other names.

Delhi and Haryana

The Kayastha community which is building the block of Delhi today and other neighboring rural communities like Yadav, Jat, which is mainly of Haryana and Punjab, consider Sharkat or Sankranti as a major festival of the year. On this day ghee, halwa and kheer saffron are specially cooked in the homes of Jats and Yadavas. A brother of every married woman goes to her house with a gift of some warm clothes for her and her husband’s family. This is called “proven”. Women used to give a gift to their in laws, and this ritual was called “celebrating”. The receiver will sit in a mansion (the main palace where men sit together and share hookka). Women go to the mansion to sing folk songs and gifts.

Makar Sankranti 2019

मकर संक्रांति पर सूर्य का गोचर: 15 जनवरी के बाद इन राशियों की किस्मत बदलेगी

मकर संक्रांति का अर्थ है कि सूर्य 15 जनवरी को मकर राशि में संचारित होने जा रहा है। सूर्य 14 जनवरी को सुबह 8 बजे मकर राशि में पहुंच जाएगा। सूर्य दोपहर 3 बजकर 02 मिनट से 15 बजे तक मकर राशि में रहेगा।

ज्योतिष के अनुसार, सूर्य का मकर राशि में गोचर 15 जनवरी के बाद कुछ राशियों के भाग्य में बदल जाएगा। इस बार मकर संक्रांति पर सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है, जो 15 जनवरी तक रहेगा।

मकर संक्रांति पर स्नान दान का योग भी 15 जनवरी (मंगलवार) से सभी राशियों के लिए भाग्योदय का योग होगा। आगे की

आगे की स्लाइड्स पर जानें, सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने से आपकी राशि में क्या खास बदलाव आएंगे।

इस बार 15 जनवरी को मनेगी मकर संक्रांति

भिवानी समाचार – मकर संक्रांति पर्व हिंदू धर्म में स्थानीय मान्यताओं के अनुसार मनाया जाता है। हर साल, आमतौर पर मकर संक्रांति 14 …

हिंदू धर्म में, मकर संक्रांति पर्व स्थानीय मान्यताओं के अनुसार मनाया जाता है। हर साल, मकर संक्रांति आमतौर पर 14 जनवरी को मनाई जाती है। इस दिन सूर्य हो रहा है, जबकि उत्तरी गोलार्ध सूर्य की ओर मुड़ता है। ज्योतिषीय मान्यताओं के अनुसार, इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है। लेकिन वैदिक हिंदू ज्योतिष के अनुसार, मकर संक्रांति का त्योहार केवल 14 जनवरी को मनाया जाएगा, लेकिन 15 जनवरी को नहीं।

छपारिया हनुमान मंदिर के पुजारी पंडित रामकिशन शर्मा ने बताया कि इस बार, 14 जनवरी की रात सूर्यदेव मकर राशि में 7 बजकर 43 मिनट पर संक्रांति में प्रवेश करेंगे। मकर संक्रांति का त्योहार सूर्य को समर्पित है। संक्रांति का त्यौहार तब मनाया जाता है, जब सूर्य धनु राशि से मकर राशि या दक्षिण-पश्चिम से उत्तरायण की ओर बढ़ता है, तो इस बार वैदिक हिंदू ज्योतिष के अनुसार, संक्रांति का त्यौहार 14 जनवरी के बजाय 15 जनवरी को ही मान्य होगा।

पंडित रामकिशन शर्मा का कहना है कि अधिकांश हिंदू परंपराओं की गणना चंद्रमा पर आधारित पंचांग द्वारा की जाती है लेकिन मकर संक्रांति को सूर्य पर आधारित पंचांग की गणना के साथ मनाया जाता है। मकर संक्रांति केवल ऋतुओं में बदलती है। शरद ऋतु कमजोर होने लगती है और वसंत आने लगता है। परिणामस्वरूप, दिन लंबे होने लगते हैं और रातें छोटी हो जाती हैं।

तीन साल बाद, 2019 में, यह मकर संक्रांति 15 जनवरी को मनाया जाएगा

करनाल न्यूज़ – मकर संक्रांति का त्यौहार वर्ष 2019 की 15 तारीख को वर्ष 2012 और 2016 के बाद मनाया जाएगा। इसके कारण किसी भी प्रकार का लगातार 14 दिन ।।

मकर संक्रांति का त्यौहार वर्ष 2019 की 15 तारीख को वर्ष 2012 और 2016 के बाद मनाया जाएगा। इसके कारण लगातार 14 दिनों तक किसी भी प्रकार का शुभ और मांगलिक कार्य नहीं होगा। इनमें शादी, गृह-प्रवेश, भूमि पूजन, मुंडन, संस्कार और अन्य मांगलिक कार्य शामिल हैं। क्योंकि सूर्य पूजन मास की शुरुआत 16 दिसंबर को सूर्य के धनु राशि में प्रवेश करने के बाद से हुई थी। इसलिए, लगभग एक महीने के बाद, भगवान सूर्य मकर कामों की शुरुआत के साथ मकर राशि में प्रवेश करेंगे। इसके अलावा, जनवरी में मकर संक्रांति का त्योहार दो दिनों तक मनाया जाएगा।

नवग्रहों में सौर ग्रह 14 जनवरी की शाम लगभग 7:52 बजे मकर राशि में प्रवेश करेगा। उसी समय मकर संक्रांति शुरू की जाएगी। पंडित धर्मेंद्र शुक्ला ने बताया कि 14 जनवरी को दोपहर 1:28 से 15 जनवरी की रात 11:52 बजे तक मकर संक्रांति का पुण्य काल रहेगा। इस वजह से लोग दान और स्नान दोनों ही दिन कर सकेंगे। इस दिन का दान लोगों के लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा।

दिन छोटा और बड़ा होने का कारण

जब तक भगवान सूर्य, कुंभ राशि, मकर, मीन, मेष, वृषभ और मिथुन राशि में हैं, तब तक इसे उत्तरायण कहा जाता है। इसके अलावा, जब भगवान सूर्य कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक और धनु राशि में रहते हैं, तब दक्षिणायन होता है। जिस दिन सूरज की तपन से सूरज उगने लगता है उसी दिन से दिन बढ़ना शुरू हो जाता है। इसके साथ ही उत्तरायण की दक्षिणायन में दिन बहुत कम हैं।

पंडित धर्मेंद्र शुक्ला ने कहा कि भगवान सूर्य शनि देव के पिता हैं। सूर्य और शनि दोनों पराक्रमी हैं। ऐसे में जब सूर्य देव मकर राशि में आते हैं, तो शनि का कीमती सामान दान करने से भक्तों पर सूर्य की कृपा बरसती है। गरिमा में भी वृद्धि होती है। मकर संक्रांति के दिन तिल से बनी वस्तुओं के दान से घर परिवार पर शनि की विशेष कृपा होती है। इसके अलावा गजक, रेवाड़ी, दाल, चावल, अनाज, रजाई, वस्त्र आदि का दान का विशेष महत्व है।

Leave a Reply